Kaala Sach
ब्रेकिंग न्यूज़
राजनीति लाइव

देखिये…..पूर्व विधायक का किसान के समर्थन में एक दिवसीय धरना! क्या बोले पूर्व विधायक…..!

रिपोर्ट – अनीस रजा
स्थान- सितारगंज

सितारगंज : पूर्व विधायक नारायण पाल ने खुनसरा गाँव पहुँचकर किसान द्वारा केले की फसल जोतने के मामले में किसान का समर्थन करते हुए अपने समर्थकों के साथ खुनसरा गांव में एक दिवसीय सांकेतिक धरना दिया।

बता दे सरकार ने किसानों की आय बढ़ाने के मकसद से केले की खेती की योजना बनाई थी। जिसके तहत उद्यान विभाग मनरेगा के तहत किसानों को केले की पौध मुहैया कराती है। मनरेगा योजना में लाभार्थी काशतकारों को विकासखंड सितारगंज से मनरेगा के तहत बुआई, निराई आदि के लिए मजदूरी दिये जाने का प्रावधान भी था। इससे प्रभावित होकर ग्राम खुनसरा के काशतकार राजेश कुमार, शेर सिंह व रमेश कुमार ने अपनी चार एकड़ भूमि पर केले की खेती करने का विचार बनाया। जून 2019 में उद्यान विभाग ने उन्हें केले के 15 सौ पौधे मुहैया कराये। इस पर काशतकारों ने चार एकड़ भूमि पर मनरेगा से मिली मजदूरी से केले की पौध लगा दी। जिसके बाद खेत की जुताई, खाद व उर्वरकों का खर्च किसानों ने खुद उठाया। इन पर बीस माह के दौरान उनके तीन से साढ़े तीन लाख रुपये खर्च हो गये। लगातार फसल की देखभाल की गई। अब जब फसल तैयार हुई तो खरीददारों की खोज शुरू की गई। कई दिन लगाने के बाद भी किसानों को केले के दो रुपये प्रति किलोग्राम के खरीददार नहीं मिले। यह देख काशतकारों के होस फख्ता हो गये। हिसाब लगाया गया तो पता चला कि इस रेट पर तो केले की फसल तैयार होने तक लगी लागत का आधा भी प्राप्त नहीं होगा। काफी कोशिशों के बाद भी जब रेट नहीं मिला तो क्षुब्ध किसानों ने खेत में खड़ी केले की फसल को ट्रैक्टर से जोत दिया।

काश्तकार रमेश यादव का कहना है कि केले की फसल लगाकर वे कर्ज में डूब गये हैं। साथ ही बीस माह तक खेत में कोई और फसल नहीं बो सके वह घाटा अलग। ऐसे में सरकार को किसानों से फसल बोने को कहने से पूर्व उसके विपणन की व्यवस्था करनी चाहिये। अन्यथा किसानों को धोखे में नहीं रखा जाना चाहिये।

Related posts

देखिये…..कोटाबाग में बच्चों ने बनाई 200 मीटर लम्बी बाल श्रृंखला! बालिका शिक्षा का दिया सन्देश…..!

काला सच

क्यों और कहाँ हुआ जिला पंचायत उपाध्यक्ष पर मुकदमा दर्ज, देखें खास रिपोर्ट…..

काला सच

एक अनजान पहेली, परिवार वाले खुशी मनाये या ग़म, देखिये रिपोर्ट…..

काला सच

देखें !… आख़िर ऐसा किया हुआ कि अचानक किसानों ने चक्का जाम कर दिया

काला सच

देखिये वीडियो…..जब गाजीपुर के लिये रवाना हुए बाजपुर के किसान, तो क्या हुआ…..!

काला सच

पढ़िए खबर !…..बाजपुर महाविद्यालय के छात्र-छात्राओं ने क्यों भेजा कैबिनेट मंत्री को पत्र !

काला सच

Leave a Comment